ihrms.raj.nic.in Online service book ऑनलाइन सर्विस बुक

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, Shivira Panchang February 2017, अजमेर, अभिनव शिक्षा, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

ihrms.raj.nic.in Online service book ऑनलाइन सर्विस बुक

अब तक कर्मचारियों के लिए अपनी सर्विस बुक को अपडेट रखना एक चुनौती रहा है, सर्विस रिकॉर्ड संबंधी जो भी नई जानकारी हो उसकी एक प्रति बनाकर खुद अपने रिकॉर्ड में रखनी पड़ती थी, लेकिन डिजिटल क्रांति ने इस काम को भी आसान बना दिया है। अब आप अपनी ऑनलाइन सर्विस बुक Online service book यहां देख सकते हैं।

अब आपको सर्विस बुक की हार्ड कॉपी यानी फाइल को हर समय अपडेट करने की चिंता करने की जरूरत नहीं है। राज्‍य सरकार ने एकीकृत मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली की वेबसाइट पर यह सब डाटा ऑनलाइन करने की कवायद शुरू की है। इसमें राजस्‍थान राज्‍य के कार्मिकों को सेवाभिलेख की एकीकृत सूचना प्रणाली बनाई जा रही है।

राज्य सरकार के अन्तर्गत विभिन्न प्रकार के संर्वगों में कुल कार्यरत एवं सेवानिवृत लगभग 11 लाख कर्मचारी हैं, जिनका आधिकारिक एवं प्रशासनिक प्रबंधन एक नियमित चलने वाली किन्तु जटिल प्रक्रिया है। इसके कम्प्यूटराईज्ड समाधान हेतु भारत सरकार की सहायता से राज्य सरकार द्वारा लगभग 10 करोड़ रूपये की लागत से एनआईसी के माध्यम से आई. एच. आर. एम. एस. (IHRMS) पोर्टल विकसित किया गया है। वर्तमान में इस पोर्टल पर कर्मचारियों के डाटा को आई. एफ. एम. एस. (IFMS) से इम्पोर्ट किया जा चुका है और कतिपय अतिरिक्त सूचना को इसमें अलग से फीड किया जाना है।


ऐसे करें लॉगइन

  1. ऊपर दिए लिंक पर जाकर login करना है।
  2. login id में Capital letter मे अध्यापक आई डी RJJP…  भरनी है l
  3. Password में भी प्रथम बार अध्यापक आई डी हि Capital letter में भरनी है।
  4. अब पासवर्ड चेंज करें।
  5. Go Entry में जाकर डाटा एन्ट्री करें। लिजिये बन गई Online service book

बजट घोषणा के अनुरुप

मुख्यमंत्री की बजट घोषणा 2015-16 में पंचायतीराज विभाग के कर्मचारियों को भी आई.एफ.एम.एस. के पे-मैनेजर से जोड़ने की घोषणा की गई, जिसके उपरान्त इन कर्मचारियों का डाटा भी आई.एच.आर.एम.एस. पोर्टल पर उपलब्ध होगा। भारत सरकार के 13वें वित्तीय आयोग की सिफ़ारिश पर तथा वर्तमान राज्य सरकार द्वारा “कर्मचारियो के सेवा रिकॉर्ड का कंप्यूटरीकरण किया जाए“ की अनुपलना मे इस परियोजना को क्रियान्वित किया जा रहा है।

11 लाख 5 हजार होंगे लाभान्वित

इस योजना के तहत 5 लाख45 हजार राजकीय कर्मचारियों, डेढ़ लाख पंचायती राज कार्मिकों, 40 हजार स्‍वायत्‍त शासन विभाग के कार्मिकों, 20 हजार अन्‍य स्‍वायत्‍त विभाग कार्मिकों और 3 लाख 50 हजार सेवानिवृत्‍त कार्मिकों को शामिल किया गया है। इन सभी कर्मचारियों का डाटा ऑनलाइन और अपडेटेड उपलब्‍ध रहेगा।

प्रबंधन संबंधी सामान्य कार्य

  1. वेतन-भत्ते का भुगतान कार्य, जिसमें ट्रेजरी और सम्बद्ध विभाग संलग्न होता है इसका पूरा प्रावधान आई.एफ.एम.एस. में विद्यमान है। वर्तमान में यह पोर्टल पूर्णतः सक्रिय है और इसका उपयोग पे-मैनेजर के रूप में सैलरी जारी किये जाने में हो रहा है। यह पोर्टल एनआईसी द्वारा विकसित है।
  2. कर्मचारी के वेतन से राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि हेतु कटौती तथा उससे कर्मचारी का ऋण सम्बंधी लेन-देन का कार्य, जिसमें राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग संलग्न होता है इसका पूरा प्रावधान एस.आई.पी.एफ. पोर्टल में विद्यमान है। यह पोर्टल सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा विकसित है। वर्तमान में यह पोर्टल लगभग पूर्णतः तैयार है और 2012 के उपरान्त कर्मचारी का समस्त डाटा जिसमें राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि दोनों का अंकन है, लाईव किया जा चुका है। यह पोर्टल आई.एफ.एम.एस. से पूरी तरह से इन्टीग्रेटेड है और इसका ऑटो अपडेशन होता रहता है। 2012 से पूर्व का डाटा अभी वर्षवार तो एन्टर नहीं किया गया है, किन्तु उस कट ऑफ डेट तक की राशि क्लोजिंग अकाउंट के रूप में दर्ज है। पुराने लिगेसी डाटा को स्केन करने व एन्टर करने की कार्यवाही अगले चरण में की जायेगी।
  3. सेवा व सेवा पुस्तिका संबंधी प्रशासनिक कार्य, जिसमें सम्बद्ध विभाग संलग्न होता है, जिसका प्रावधान आई.एच.आर.एम.एस. पोर्टल में विद्यमान है। सामान्यतः एक अधिकारी/कर्मचारी को नियुक्ति से सेवानिवृत्ति के मध्य निम्न कार्य संपादित करने होते हैं-
  • पदस्थापन, कार्यभार ग्रहण/हस्तांतरण,
  • सेवा पुस्तिका संधारण, सेवा सत्यापन
  • वरिष्ठता सूची निर्धारण/प्रकाशन,
  • पदोन्नति,
  • स्थानान्तरण,
  • प्रतिनियुक्ति,
  • अवकाश स्वीकृति,
  • प्रशिक्षण,
  • विभागीय जांच,
  • ए.सी.आर. पूर्ति,
  • वेतन, पे-फिक्सेशन, पे-स्लिप, वेतन संबंधी कटौती, जी.ए. 55, नो-ड्यूज, एल.पी.सी. आदि
  1. पेंशन संबंधी कार्य, जिसमें सम्बद्ध विभाग तथा पेंशन विभाग संलग्न होता है। हर वर्ष लगभग 15 से 20 हजार कर्मचारी सेवानिवृत्‍त होते हैं और पेंशन विभाग के पास इनके निस्तारण का बड़ा कार्य विद्यमान रहता है। वर्तमान में पेंशन जारी करने की प्रक्रिया आई.पी.एफ.एम.एस. पर उपलब्ध है, किंतु उसकी स्वीकृति संबंधी समस्त प्रक्रिया पेंशन कुलक भरने से जारी करने तक लगभग मैन्यूअल है। इसका दुष्परिणाम यह है कि अनावश्यक रूप में संबंधित विभाग द्वारा कई प्रतियों में डाटा लिखित रूप में भरना पड़ता है और पुनः पेंशन विभाग द्वारा उसे मैन्यूअल रूप में सत्यापित कर पेंशन जारी करना पड़ता है।

पेंशन विभाग निम्न सूचनाएं पुनः प्राप्त करता है

  • सर्विस बुक से जुड़ी समस्त सूचनाएं।
  • आई.एफ.एम.एस. पर दर्ज वेतन भुगतान संबंधी सूचनाएं।
  • विभिन्न संबंधित विभागों (मूल नियोक्ता विभाग, पदस्थापन कार्यालय, मोटर गैरेज, लाईब्रेरी आदि) से नोड्यूज़।
  • विभागीय जांच से संबंधित सूचना।
  • रेन/डेप्यूटेशन सेवावधि का पेंशन कंट्रीब्यूशन जमा कराने का विवरण।
  • राजकीय कर्मचारी के रूप में राजकीय विभागों से लिये गये ऋणों की सूचना।
  • कर्मचारी के परिवार का विवरण एवं पति-पत्नी का संयुक्त फोटो।
  • कर्मचारी के हस्ताक्षर, फिंगर प्रिंट, बैंक व अन्य अकाउन्ट डिटेल
    (यदि कर्मचारी मूल वेतन भुगतान से भिन्न खाते ट्रेजरी मेँ भुगतान चाहता है)।

उल्लेखनीय है कि पेंशन स्वीकृति की अधिकांश अनिवार्यताएं व औपचारिकताएं पूर्व तीन पोर्टल से पूरी हो जाती है, अतः जैसे ही आई.एच.आर.एम.एस. पोर्टल में डाटा एन्ट्री पूरी हो जाती है, आवश्यक सुविधा विकसित कर इसका पेंशन कार्यों में प्रयोग प्रारम्भ कर दिया जाना है, ताकि कर्मचारियों से संबंधित कार्यों की मिसिंग लिंक को जोड़ा जा सके।

वस्तुतः इन चारों कार्यों के अन्ततः एक ही डाटाबेस से पूर्णतः इन्टीग्रेटेड होने पर लगभग सारे कार्य एक-दूसरे से लिंक्ड हो जायेंगे और परस्पर सत्यापन की भी आवश्यकता नगण्य रह जायेगी। आई.एच.आर.एम.एस. इसी दिशा में एक पहल है।

इसी प्रकार सेवाभिलेख, पदोन्नति, अवकाश स्वीकृति, विभागीय जांच, वरिष्ठता सूची, वेतन कटौती आदि के प्रकारणों में, जहां अधिकांशतः स्वयं कार्मिक समयबद्ध या समुचित रूप में अपनी सेवा संबंधी स्थिति से अवगत नहीं हो पाता और न ही आधिकारिक स्तर पर ही इसकी समुचित माँनिटरिंग हो पाती है, वहां उनकी बेहतर माँनिटरिंग सुनिश्चित होगी और सरल रूप में सूचनाएं उपलब्ध होंगी।


सामान्‍य तौर पर पूछे जाने वाले प्रश्‍न


IHRMS क्या है ?

IHRMS (Integrated Human Resource Management System), राजस्थान सरकार, स्थानीय निकाय, स्वशासी संस्थान एवं पंचायती राज संस्थान के समस्त अधिकारी/कर्मचारियों की सेवा पुस्तिका (Service Book) मे दर्ज सभी सूचनाए तथा पैंशनर्स की महत्वपूर्ण सूचनाओं को इलेक्ट्रोनिक रूप मे संधारित करने की एक महत्वपूर्ण परियोजना है ।


राज्य नोडल अधिकारी के दायित्व क्या है ।

प्रत्येक विभाग मे एक राज्य नोडल अधिकारी होंगे, जिनके प्रमुख दायित्व निम्न है :-

  • राज्य सरकार (DoP) द्वारा इस परियोजना के सफल किर्यान्वयन हेतु जारी दिशा निर्देशों की अपने विभाग ने अनुपलना सुनिश्चित करना ।
  • तकनीकी समस्याओं हेतु NIC के अधिकारी जो IHRMS मे कार्यरत है, से संपर्क कर, उनका निराकरण करवाना ।
  • अपने विभाग के समस्त अधिकारी/कर्मचारियों की सेवा पुस्तिका (Service Book) मे दर्ज सभी सूचनाओ को IHRMS मे दर्ज करवा कर इस परियोजना को सफल बनाना ।

क्या DDO अपने अधीन अधिकारी/कर्मचारी का डाटा डाल सकते हैं ?

हाँ, DDO को Pay Manager (IFMS) मे दी गई ID का उपयोग User ID तथा पासवर्ड के रूप मे कर डाटा प्रविष्ठ किया जा सकता है ।


क्या डाटा एंट्री ऑपरेटर या अन्य किसी कम्प्युटर जानने वाले व्यक्ति के द्वारा विभाग के अधिकारी/कर्मचारीयों का डाटा डाला जा सकता   है ?

हाँ, DDO को Pay Manager (IFMS) मे दी गई ID के बाद deo शब्द का उपयोग User ID तथा पासवर्ड के रूप मे कर डाटा प्रविष्ठ किया जा सकता है । यथा 12345678 किसी DDO की ID है तो डाटा एंट्री ऑपरेटर की User ID 12345678deo होगी ।


पासवर्ड भूल जाने पर क्या किया जाए ?

पासवर्ड भूलने की स्थिति मे लॉगिन ऑप्शन का उपयोग करने पर रीसेट पासवर्ड पर क्लिक करे । पेज पर दिये हुए फील्ड्स को भर कर रीसेट पासवर्ड पर क्लिक करने से पासवर्ड रीसेट हो जाएगा।


कर्मचारी को IHRMS से क्या सुविधा होगी ?

कर्मचारी को निम्न सुविधा होंगी :-

  • स्वयं से संबन्धित समस्त सूचनाए एक स्थान पर उपलब्ध होंगी, यथा पे-स्लिप, GA-55, SIPF की कटोती का विवरण, अवकाश, स्थानांतरण, पदोन्नति, वेतन परिलाभ आदि ।
  • ऑनलाइन सेवा सत्यापन ।
  • सेवा-निवृत्ति पर डिजिटल सेवा पुस्तिका (Service Book)

पैंशनर्स को IHRMS से क्या सुविधा होगी ?

पैंशनर्स को स्वयं से संबन्धित समस्त सूचनाए एक स्थान पर उपलब्ध होंगी, यथा पैंशन भुगतान, पैंशन पुनः निर्धारण, पैंशन वृद्धधी आदि । पैंशनर्स को कोष कार्यालय अथवा बैंक से संपर्क करने की आवश्यकता कम से कम रहेगी ।


क्या इसमे अधिकारी/कर्मचारियों का कुछ डाटा पहले से उपलब्ध है ?

जिन अधिकारी/कर्मचारियों का वेतन Pay Manager (IFMS) के माध्यम से दिया जा रहा है उन सभी अधिकारी/कर्मचारियों का कुछ डाटा इसमे उपलब्ध है


जिन अधिकारी/कर्मचारियों का कुछ डाटा पहले से उपलब्ध नहीं है, उन्हे क्या करना है ?

Pay Manager (IFMS) के अतिरिक्त वेतन पाने वाले अधिकारी/कर्मचारी अपने डाटा को IHRMS मे प्रविष्ट करने से पूर्व उन्हे IHRMS Help Desk पर संपर्क करना चाहिए, जो कमरा संख्या 7010, फूड बिल्डिंग, शासन सचिवालय, जयपुर, राजस्थान से संचालित की जा रही है । संपर्क करने हेतु support-ihrms-rj@nic.in पर eMail अथवा दूरभाष संख्या 0141-5153222-21914 पर बात की जा सकती है ।


क्या डाटा एन्ट्री हिन्दी भाषा मे की जा सकती है ?

हाँ, IHRMS वैबसाइट पर उपलब्ध हिन्दी टूल किट को अपने कम्प्युटर पर डाउनलोड कर हिन्दी फॉन्ट स्थापित किया जा सकता है। Alt+Shift keys के उपयोग से भाषा परिवर्तन किया जा सकता है ।


IHRMS मे क्या सूचनाए भरनी है ?

इसमे अधिकारी/कर्मचारी की सामान्य जानकारी के अतिरिक्त उसकी नियुक्ति, शारीरिक मापदंड, शेक्षणिक योग्यता, परिवार का विवरण, नामित सदस्य, अवकाश, पदोन्नति, वेतन परिलाभ, विभिन्न पदस्थान, पुरुस्कार, विभागीय जांच, न्यायायिक मामले, प्रशिक्षण, ACR/APR आदि से संबन्धित सूचनाए भरी जानी है ।


क्या IHRMS मे चाही गयी समस्त सूचनाए भरना जरूरी है ?

हाँ, परंतु पुराने लिगेसी डाटा मे बहुत अधिक समय न लगा कर पहले सर्विस हिस्ट्री, अवकाश, विभगीय जाच तथा नॉमिनी की एन्ट्री जरूर करनी चाहिए ।


IHRMS मे भरी गयी सूचनाए, प्रमाणित (validate) मानी जाएंगी ?

सेवा पुस्तिका संधारित करने वाले अधिकारी, सूचनाओ को भरने के बाद, उन्हे प्रमाणित (validate) करेंगे, तभी वो सूचनाए मान्य होंगी ।


प्रविष्ठ की गयी सूचनाओ को कैसे प्रमाणित (validate) किया जाएगा ?

सूचनाओ को प्रमाणित (validate) करने की प्रक्रिया बहुत ही सरल है, इसमे सेवा पुस्तिका संधारित करने वाले अधिकारी (validator) को संबन्धित अधिकारी/कर्मचारी के डाटा के समक्ष बॉक्स पर  क्लिक करना है ।


Photo, Palm, Sign, Thumb impression अपलोड नहीं हो रहे है।

अपलोड करते समय फ़ाइल का फॉर्मेट (JPEG, JPG, GIF) तथा साइज़ जांच लेवे. फोटो और पाम का अधिकतम साइज़ 30 KB एवं साइन और अंगूठे का अधिकतम साइज़15 KB होना चाहिए।


मास्टर डाटा मे उपलब्ध डाटा के अतिरिक्त यदि नया डाटा जुडवाना है, तब क्या करना होगा ?

मास्टर डाटा मे उपलब्ध डाटा के अतिरिक्त यदि नया डाटा जुडवाना है, तब IHRMS Help Desk पर संपर्क कर उसे जुड़वाया जा सकता है, जो कमरा संख्या 7010, फूड बिल्डिंग, शासन सचिवालय, जयपुर, राजस्थान से संचालित की जा रही है । संपर्क करने हेतु support-ihrms-rj@nic.in पर eMail अथवा दूरभाष संख्या 0141-5153222-21914 पर बात की जा सकती है ।


डाटा एंट्री के समय यदि तकनीकी कठिनाई महसूस हो तो क्या किया जाए ?

कमरा संख्या 7010, फूड बिल्डिंग, शासन सचिवालय, जयपुर, राजस्थान, मे IHRMS Help Desk पर स्वयं उपस्थित होकर या दूरभाष संख्या 0141-5153222-21914 पर संपर्क कर तकनीकी कठिनाई को दूर करने हेतु संपर्क किया जा सकता है।


SHARE