सरकारी स्कूल में अब 5वीं बोर्ड, निजी में जरूरी नहीं

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in
shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

सरकारी स्कूल में अब 5वीं बोर्ड, निजी में जरूरी नहीं

सरकार ने चालू सत्र से ही पांचवीं के लिए ‘जिला स्तरीय प्राथमिक शिक्षा अधिगम स्तर मूल्यांकन परीक्षा-2017′ में 5वीं बोर्ड लागू कर दिया है। इस साल सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए अनिवार्य है। जबकि निजी स्कूलों के लिए वैकल्पिक रहेगी। परीक्षा में किसी भी विद्यार्थी को पास या फेल घोषित नहीं किया जाएगा। प्रत्येक विषय में 5 पॉइंट स्केल के आधार पर ग्रेड दी जाएगी।

प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने इसका निर्देश जारी किया है। 80 अंकों के आधार पर मूल्यांकन के बाद 20 अंक सत्रांक जोड़कर कुल 100 अंकों में से ग्रेड देते हुए मार्कशीट बनेगी। सभी विषयों की ग्रेडिंग के आधार पर ओवरऑल मार्कशीट दी जाएगी। सीजीपीए के प्रावधान नहीं है। प्रत्येक स्कूल जहां कक्षा 5 भी संचालित है,वहां परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। छात्र जिस स्कूल में पढ़ता है वहीं केंद्र होगा। पेपर शत प्रतिशत पाठ्यक्रम के आधार पर बनाए जाएंगे। इस परीक्षा में पुनर्मूल्यांकन ग्रेस का प्रावधान नहीं है। पुनर्गणना होगी। यह प्रक्रिया विद्यालय के मार्फत संग्रहण एवं मूल्यांकन केंद्र के जरिए की जाएगी। दरअसल,इस मूल्यांकन परीक्षा का उद्देश्य अध्यापकों की जवाबदेही तय करना है। चिह्नित कमजोर बालकों की पहचान कर उपचारात्मक शिक्षण के माध्यम से उनके स्तर में सुधार किया जाएगा। शिक्षकों के कमजोर पहलू तय कर सुधार के लिए शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम लागू किए जाएंगे। पांचवीं बोर्ड परीक्षा में ‘डी’ ग्रेड आने पर परिणाम घोषित होने के 15 कार्य दिवसों में संबंधित विषयाध्यापक एवं संस्था प्रधान से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा। बीईईओ डीईओ यह कार्यवाही से जिला स्तरीय प्रशासनिक कमेटी को जानकारी दी जाएगी।

किसी भी सरकारी या मान्यता प्राप्त प्राइवेट स्कूल में कक्षा 5 में अध्ययनरत विद्यार्थी ही इस मूल्यांकन परीक्षा में भाग ले सकेगा। प्रत्येक सरकारी स्कूल के संस्था प्रधान अपने विद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं से परीक्षा के आवेदन भरवाएंगे। सत्र 2016-17 के लिए गैर सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों के लिए यह मूल्यांकन वैकल्पिक होगा। नेत्रहीन मूक बधिर विद्यार्थियों के लिए यह परीक्षा वैकल्पिक रहेगी चाहे वह सरकारी स्कूल में पढ़ रहा हो। परीक्षा की प्रशासनिक व्यवस्था के लिए डीईओ प्रारंभिक अध्यक्ष होंगे। डाइट प्रिंसिपल सदस्य सचिव रहेंगे। जिला परिषद सीईओ का प्रतिनिधि,सभी बीईईओ,एक प्रिंसिपल,एक प्रधानाध्यापक,एक डाइट व्याख्याता तथा सहायक लेखाधिकारी कमेटी में सदस्य होंगे।

पांचवीं बोर्ड के संबंंध में निदेशालय से निर्देश मिले हैं। हम शीघ्र ही कमेटी बनाकर तैयारी बैठक करेंगे।  विष्णु चाष्टा, डीईओ (प्रारंभिक)

SHARE