सरकारी स्कूलों में अब 5 वर्ष में मिलेगा प्रवेश

New admission in sarkari school
New admission in sarkari school

सरकारी स्कूलों में अब 5 वर्ष में मिलेगा प्रवेश

सरकारी स्कूलों में पहली कक्षा में प्रवेश की न्यूनतम आयु अब 5 साल कर दी है। अब तक 6 साल के बच्चे को पहली कक्षा में प्रवेश दिया जाता था।

केंद्रीय स्कूलों सीबीएसई पैटर्न के स्कूलों में कक्षा एक में प्रवेश की न्यूनतम आयु 5 साल ही है। ऐसे में राज्य के स्कूलों के बच्चे एक साल पिछड़ रहे हैं। केंद्र सरकार के अधीन संचालित स्कूलों के साथ एकरूपता रखते हुए प्रदेश के सभी स्कूलों में भी प्रवेश की न्यूनतम आयु एक साल कम कर दी है। एक और संशोधन और किया है।

इसके अनुसार आरटीई के तहत पहली से आठवीं में कोई भी बालक-बालिका शैक्षणिक सत्र प्रारंभ की तिथि से 6 माह की अवधि तक प्रवेश ले सकेंगे। मिलिट्री स्कूल्स एवं सैनिक स्कूलों में कक्षा 6 में प्रवेश दिए जाते हैं। इनमें प्रवेश की न्यूनतम आयु 10 साल अधिकतम 11 साल है।

इस कारण राज्य के स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को इन स्कूलों में प्रवेश का अवसर नहीं मिल रहा था। सरकारी स्कूलों में अध्ययन करने वाले बच्चों का प्रवेश कक्षा 1 में 6 साल बाद होता है। ये बच्चे कक्षा 5 उत्तीर्ण करते समय 11 साल से अधिक आयु के हो जाते हैं।

एडीईओ प्रारंभिक हरिशंकर शर्मा ने बताया कि सरकारी स्कूलों में प्रवेश की न्यूनतम आयु 5 साल कर दी गई है। सैनिक स्कूलों अन्य मिलिट्री स्कूलों में प्रवेश का अवसर अब सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मिल सकेगा।

SHARE