राजस्थान सरकार विकास के नये आयाम स्थापित करने के लिए अनेक नवाचार लागू कर रही है : कटारिया

राजस्थान सरकार विकास के नये आयाम स्थापित करने के लिए अनेक नवाचार लागू कर रही है
राजस्थान सरकार विकास के नये आयाम स्थापित करने के लिए अनेक नवाचार लागू कर रही है

राजस्थान सरकार विकास के नये आयाम स्थापित करने के लिए अनेक नवाचार लागू कर रही है : कटारिया

नई दिल्ली । राजस्थान के गृहमंत्राी श्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा है कि राजस्थान सरकार प्रधानमंत्राी श्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह के मार्गदर्शन और ऊर्जावान मुख्यमंत्राी श्रीमती वसुंधरा राजे के नेतृत्व में विकास के नए आयाम स्थापित करने के लिए अनेक नवाचार लागू कर रही है।

कटारिया शनिवार को नई दिल्ली को महाराष्ट्र भवन में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्राी परिषद् की बैठक में राज्य का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। बैठक में राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष श्री अशोक परनामी भी मौजूद थे। बैठक को प्रधानमंत्राी श्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने संबोधित किया।

बैठक में राजस्थान सरकार की उपलब्धियों को प्रस्तुतीकरण करते हुए श्री कटारिया ने कहा कि राज्य की विगत ढ़ाई साल के कार्यो को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है फलस्वरूप राज्य को कई अवार्ड भी माइक की जगह मिले है।
उन्होने बताया कि राज्य सरकार ने महिला को परिवार का मुखिया बना कर महिला सशक्तिकरण और वित्तीय सशक्तिकरण की सबसे बड़ी महत्वाकांक्षी परियोजना लागू की है। जिसकी वजह से राज्य के 1.26 करोड़ परिवारों के 4.46 की करोड़ व्यक्तियों को 3702 करोड़ रू. की राशि का हस्तातंरण किया गया है तथा नकद और गैर नकद लाभ हस्तांतरण से उन्हें बिचोलिया से मुक्त करवाना संभव हो सका हैं।

कटारिया ने बताया कि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना से राज्य में 4.09 लाख से अधिक मरीज लाभान्वित हुए हैं और 110 करोड़ के क्लेम पारित हुए है। भारत सरकार द्वारा ईगवर्नेस का स्वर्ण पुरस्कार भी दिया गया है।
उन्होने बताया कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली में नवाचार करते हुए राज्य में अन्नपूर्णा भंडार (ग्रामीण माॅल) की शुरूआत की गई है और इनमें राशन के अलावा अन्य गुणवत्ता युक्त वस्तुओं की सस्ती दर पर उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। राज्य में अब तक 3039 अन्न पूर्णा भंडार चालू किये जा चुके है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं की दिशा में नवाचार करते हुए मुख्यमंत्राी राजश्री योजना शुरू की गई है। जिसके तहत 1 जून 2016 के बाद जन्म लेने वाली बालिका को जन्म पर ढ़ाई हजार रूपये और प्रथम वर्षगांठ पर ढ़ाई हजार रूपयें देने के साथ ही राजकीय विद्यालय मे प्रवेश पर एवं निरंतर पढ़ाई पर कुल 50 हजार रूपये की सहायता देने का प्रावधान किया गया है। जिससे अब तक 81 हजार 429 बालिकाएं लाभांवित हो चुकी है। इसी प्रकार निराक्षित बच्चों के पालन पोषण और शिक्षा की व्यवस्था के लिए अभिनव योजना लागू की गई है। जिसके अन्तर्गत 171 करोड़ रूपये प्रतिवर्ष व्यय कर 1.83 लाख बच्चों को लाभांवित किया गया है। राज्य में भामाशाह निर्माण श्रमिक कल्याण योजना भी लागू की गई है। जिसके अंतर्गत निर्माण श्रमिकों एवं उनके परिवार के लिए शिक्षा आवास, स्वास्थ्य बीमा तथा भविष्य सुरक्षा की बहुआयामी योजना लागू की जा रही है।

कटारिया ने मुख्यमंत्राी जल स्वालम्बन अभियान की चर्चा करते हुए बताया कि इस वर्ष जनवरी से प्रारंभ की गई इस महत्वाकांक्षी अभियान के पहले चरण में 3529 गांव में 1223 करोड़ रूपयें व्यय कर 93 हजार 104 कार्य पूर्ण करवाये जा चुके है और इन कार्यो के आस-पास 21 लाख पौधे भी लगाये गए है।

उन्होने बताया कि ग्रामों जल आत्मनिर्भर बनाने, पेयजल का स्थायी समाधान करने, जलसंग्रहण एवं संरक्षण और सिंचाई क्षेत्राफल कृषि उत्पादकता के लिए चार वर्षाे 21 हजार गांव में जल संरक्षण के कार्य करवाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस अभियान के दूसरे चरण में आगामी 16 नवंम्बर से शुरू होगा जिसमें 2100 करोड़ रूपये की लागत से 4200 नये गांव में जल संरक्षण के कार्य करवाये जायेगंे। साथ ही इस बार शहरी क्षेत्रों को भी इसमें शामिल किया जायेगा।

कटारिया ने बताया कि राज्य में ग्राम पंचायत स्तर पर राजस्व अदालतों का आयोजन कर न्याय आपके द्वार अभियान के अंतर्गत 69.90 लाख प्रकरणों का निस्तारण किया गया है। प्रदेश में 584 ग्राम पंचायते वाद मुक्त हुई है।

उन्होने बताया कि खुशहाल राजस्थान के अन्तर्गत जनसोभागिता से आमजन विशेषकर बच्चों किशोरी बालिकाओं वृद्ध एवं असहाय व्यक्तियों के जीवन में खुशहाली लाने का प्रयास किया जा रहा है। प्रदेश में कौशल विकास एवं रोजगार स्वच्छ भारत मिशन, खिलौना बैंक, वस्त्रा बैंक, निशुःल्क एंव नियाती दर पर भोजन, पुस्तक बैंक, खुशहाल एवं स्वस्थ बालिका एवं प्रधानमंत्राी फसल बीमा योजना आदि को प्रभावी ढ़ंग से लागू किया जा रहा है।

उन्होने बताया कि प्रदेश में निवेश को आकृर्षित करने के लिए रिजर्सेंट राजस्थान 2015 को आशा अनुरूप सफलता मिली है और 470 एम.ओ.यू पर हस्ताक्षर हुए है।

उन्होने बताया कि राज्य को राष्ट्रीय सोलर मिशन में उल्लेखनीय योगदान के लिए सौर ऊर्जा पुरस्कार भारत की सर्वोच्चतम राज्य नोडल एजेंसी के लिए एर्नेशिया अवार्ड सौर उर्जा के विकास में उत्कृष्ट योगदान के लिए सोलर इ.पी.सी.अवार्ड, अक्षर उर्जा प्रोत्साहन एसोसिएशन द्वारा भारत का सर्वोत्तम सौर राज्य एम.एन.आर.ई भारत सरकार द्वारा अक्षय उर्जा में उल्लेखनीय योगदान के लिए 11 पुरस्कार और अक्षय उर्जा के प्रौत्साहन में उत्कृष्ट कार्य का रिइंवेस्ट अवार्ड मिला है। इसके अलावा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, कौशल विकास, डेरी, जयपुर मेट्रो आदि अनेक अवार्ड पुरस्कार भी मिले।

SHARE