बालोतरा : कम छुट्टियां मनाओ, पांच अंक का फायदा पाओ

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, Shivira Panchang February 2017, अजमेर, अभिनव शिक्षा, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

बालोतरा : कम छुट्टियां मनाओ, पांच अंक का फायदा पाओ

बालोतरा : पांचवी बोर्ड परीक्षा में बैठने वाले विद्यार्थी कम छुट्टियां मनाते हैं तो उन्हें पांच अंक का फायदा मिल जाएगा। सरकार ने विद्यालयों में छात्र-छात्राओं के ठहराव को लेकर यह प्रावधान किया है। इतना ही नहीं यह परीक्षा शिक्षकों का स्तर सुधारेगी। विद्यार्थियों के शैक्षणिक स्तर के आधार पर उनका मूल्यांकन होगा और सुधार को लेकर प्रशिक्षण दिया जाएगा। सौ अंकों की परीक्षा में बीस अंक सत्रांक के होंगे। इसको लेकर शिक्षा निदेशालय ने आदेश जारी किए हैं।

पांचवी बोर्ड परीक्षा जिला स्तरीय शिक्षा अधिगम स्तर मूल्यांकन परीक्षा के नाम से होगी। इस परीक्षा में न केवल शिक्षार्थी वरन शिक्षकों का भी मूल्यांकन होगा। शिक्षार्थियों का स्तर कमजोर पाया जाता है तो अध्यापकों की जवाबदेही तय होगी। उपचारात्मक शिक्षण को आधार मान कर यह परीक्षा होगी जिसमें कमजोर अधिगम स्तर रहने पर शिक्षकों की कमजोरियों को चिह्नित कर शिक्षण प्रशिक्षण दिया जाएगा, जिससे वे अधिगम के आधार पर बेहतर शिक्षा दे सकें।

विद्यालयों में विद्यार्थियों का अधिक ठहराव सुनिश्चित करने के लिए उपस्थिति के भी अंक निर्धारित किए हैं। जो विद्यार्थी 86 से 100 फीसदी तक उपस्थिति दर्ज करवाएंगे, उन्हें पांच अंक मिलेंगे। 76 से 85 फीसदी तक उपस्थिति पर चार, 71 से 75 फीसदी पर तीन व 60 से 70 फीसदी उपस्थिति पर दो अंक देय होंगे। 70 फीसदी से कम उपस्थिति वाले विद्यार्थी परीक्षा में नहीं बैठ सकेंगे, लेकिन संस्था प्रधान विशेष परिस्थिति में दस फीसदी उपस्थिति की छूट देकर परीक्षा में बैठने की इजाजत दे सकेंगे।

तीन कमेटियां होगी गठित

पांचवी बोर्ड को लेकर तीन कमेटियां गठित की जाएगी। प्रशासनिक, शैक्षणिक व ब्लॉक स्तरीय कमेटी। प्रशासनिक कमेटी में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक शिक्षा अध्यक्ष, डाइट प्राचार्य उपाध्यक्ष, जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक, आदर्शउमावि, उप्रावि के संस्था प्रधान, परीक्षा संयोजक डाइट व्याख्याता तथा सहायक लेखाधिकारी इस कमेटी में होंगे। इसी तरह शैक्षणिक व ब्लॉक स्तरीय कमेटियों का भी गठन होगा।

न उत्तीर्ण, ना अनुत्तीर्ण सिर्फ ग्रेडिंग

पांचवी बोर्ड परीक्षा में विद्यार्थी न तो उत्तीर्ण और ना ही अनुत्तीर्ण होंगे। उन्हें अंकों के आधार पर ग्रेडिंग दी जाएगी। 0 से 40 अंक पर डी, 41 से 60 अंक पर सी, 61 से 75 अंक पर बी, 76 से 90 अंक पर ए तथा 91 से 100 अंक पर ए प्लस ग्रेड मिलेगा।

यह आधार पर रहेगा सत्रांक में सहायक

बीस अंक सत्रांक के होंगे, जिसमें से पांच अंक उपस्थिति के दिए जाएंगे। इसके अलावा प्रथम व द्वितीय परख, अद्र्धवार्षिक परीक्षा के अंक भी देय होंगे। साथ-साथ कक्षा-कक्षीय गतिविधियों, व्यक्तिगत मूल्यांकन सहित अन्य गतिविधियों को लेकर भी अंकों का विभाजन होगा। मूल्यांकन में पोर्ट फोलियो की स्थिति, अवलोकन व मौखिक गतिविधियों में भागीदारी का भी अंकन होगा।


बोर्ड परीक्षा छात्रों व शिक्षकों का मूल्यांकन

पांचवी बोर्ड परीक्षा छात्रों व शिक्षकों का मूल्यांकन होगा। इससे विद्यार्थियों के अधिगम स्तर का जाना जाएगा तथा शिक्षकों का स्तर भी देखा जाएगा। इससे विद्यालयों में शिक्षण स्तर सुधरेगा।

महेश दादाणी, (शैक्षणिक प्रकोष्ठ अधिकारी)

SHARE