बारिश में गुरुजी खुद संभालें स्‍कूल Protect school building

बारिश में गुरुजी खुद संभालें स्‍कूल Protect school building
बारिश में गुरुजी खुद संभालें स्‍कूल Protect school building

बारिश में गुरुजी खुद संभालें स्‍कूल

बीकानेर। इस बारिश के सीजन में गुरुजी को केवल घर की ही नहीं स्‍कूल की छतों को भी संभालना होगा, किसी को कह देने से भी काम नहीं चलेगा, खुद स्‍कूल भवन पर व्‍यक्तिगत ध्‍यान देना होगा कि कहीं बारिश और पानी से स्‍कूल भवन को नुकसान तो नहीं पहुंच रहा।

बारिश के दौर परवान पर है, इस बीच राज्‍य के कुछ जिलों में जहां अत्‍यधिक वृष्टि के कारण स्‍कूलों में अवकाश तक घोषित करना पड़ गया है, वहीं स्‍कूलों को बारिश के नुकसान से बचाने के लिए राजस्‍थान माध्‍यमिक शिक्षा परिषद् के अतिरिक्‍त निदेशक ने सभी राजकीय माध्‍यमिक एवं उच्‍च माध्‍यमिक विद्यालयों के संस्‍था प्रधानों को निर्देश जारी किए हैं।

अपने आदेश में उन्‍होंने कहा है कि वर्षा काल और वर्षाकाल के बाद विद्यालय भवनों की छत और नालियों की सफाई एवं पानी की निकासी सुनिश्चित कराई जाए। उन्‍होंने बताया कि जल निकासी के मार्ग अवरुद्ध होने के कारण बारिश के दौर में स्‍कूलों की छतों पर बारिश का पानी एकत्रित हो जाता है, इससे शाला भवन को खासा नुकसान पहुंचता है।

अतिरिक्‍त निदेशक ने ताकीद की है कि छतों पर नालों के अवरुद्ध होने के कारण अथवा पानी भरने के कारण शाला को किसी प्रकार का नुकसान होने पर संस्‍था प्रधान व्‍यक्तिगत रूप से जिम्‍मेदार होंगे। ऐसे में इस कार्य को सर्वोच्‍च प्राथमिकता के साथ पूरा किए जाने के निर्देश दिए गए हैं।

गौरतलब है कि राज्‍य के माध्‍यमिक एवं उच्‍च माध्‍यमिक विद्यालयों के अलावा शिक्षा विभाग के हर जिले में प्रशासनिक कार्यालय भी हैं। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय, सर्वशिक्षा अभियान कार्यालय, राष्‍ट्रीय माध्‍यमिक शिक्षा अभियान कार्यालय, उपनिदेशक कार्यालय, पंचायती राज शिक्षा से संबंधित कार्यालय, हर ब्‍लॉक ऑफिस में भी छतें हैं, लेकिन राज्‍य के शिक्षा निदेशालय अथवा राज्‍य सरकार की ओर से इन कार्यालयों में साफ सफाई अथवा जल निकासी की व्‍यवस्‍था किए जाने की जरूरत है। बारिश का जैसा दौर चल रहा है, उससे इन कार्यालयों के भवनों को भी नुकसान पहुंच सकता है।

SHARE