पाली : फ्लैक्स बोर्ड की जगह कागजों पर लिखे शिक्षकों के नाम

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, Shivira Panchang February 2017, अजमेर, अभिनव शिक्षा, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

पाली : फ्लैक्स बोर्ड की जगह कागजों पर लिखे शिक्षकों के नाम

पाली : सरकारी विद्यालयों में मुख्य फ्लेक्स बोर्ड पर अध्यापकों की जानकारी अंकित की जानी थी, लेकिन जिले के प्राथमिक, उच्च प्राथमिक, माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों में अब तक एेसा नहीं किया गया है। जिले के 1288 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में से अब तक आधे स्कूलों में भी यह बोर्ड नहीं लगाए गए है।

जिनमें लगे हैं वे भी कागज पर या श्याम पर पट्ट पर नाम लिखकर औपचारिकता निभाई गई है। यह स्थिति शनिवार को पत्रिका टीम के शहर स्थिति विद्यालयों में जाने पर सामने आई। एेसे में ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है।

आदर्श नगर स्कूल

विद्यालय परिसर में ही माध्यमिक शिक्षा पाली मण्डल के उपनिदेशक का कार्यालय संचालित है। इस स्कूल भवन की बाहरी दीवार पर अध्यापकों का चार्ट नहीं लगा था। अध्यापिका से पूछने पर बोली हमने शिक्षकों की सूचना लगा रखी है और एक कक्ष में ले गई। उसमें लगे सूचना पट्ट पर एक सफेद पेपर पर शिक्षकों के नाम लिखे थे। जो नजदीक जाने पर ही नजर आए। शिक्षका का कहना था बजट ही नहीं है। इस कारण हमने अस्थाई रूप से यह चार्ट लगाया है। एेसा ही हाल पैकेज कॉलोनी स्कूल में भी था। जबकि यह स्कूल ब्लॉक प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय से कुछ ही दूरी पर स्थित है।

मेला दरवाजा स्कूल

विद्यालय में बने किसी भी कक्ष की दीवार पर कोई चार्ट नहीं लगा था। इस बारे में पूछने पर प्रधानाध्यापिका अपने कक्ष में ले गई और श्याम पट्ट पर लिखे दो नाम बताए। एक नाम मिटा हुआ था। वहां फोटो खींचने पर बोली ठहरो मैं नाम लिख देती हूं। इसी कक्ष में दरवाजे के पीछे एक चार्ट पर हाथ से लिखे शिक्षकों के नाम लिखे बताए। जो काफी पुराने थे। इस बारे में अध्यापिका का कहना था चार्ट बनवाने के लिए दे दिया है। वह आते ही लगवा दिया जाएगा।

यह जानकारी लिखनी है

विद्यालयों में लगने वाले अध्यापकों के फ्लैक्स चार्ट पर शिक्षकों के नाम के अलावा अन्य जानकारियां भी लिखी जानी है। इसमें मुख्य रूप से शैक्षणिक योग्यता, शिक्षक के विद्यालय में पद स्थापन की तिथि भी लिखनी है। अध्यापकों का फोटो भी लगाना है। जिससे विद्यालय में आने वाले अभिभावकों को अध्यापक की पूरी जानकारी मिल सके।


जिले में अब तक 602 स्कूलों में अध्यापकों के फ्लैक्ट बोर्ड लगाए गए हंै। शेष विद्यालयों में बोर्ड लगाने के लिए संस्था प्रधानों को निर्देश दिए हैं।

गोरधनलाल सुथार, जिला शिक्षा अधिकारी, प्रारम्भिक, पाली

SHARE