एमएलवी में नवंबर से होगी ई-क्लास दूसरे कॉलेजों के स्टूडेंट भी पढ़ सकेंगे

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in
shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

एमएलवी में नवंबर से होगी ई-क्लास दूसरे कॉलेजों के स्टूडेंट भी पढ़ सकेंगे

कॉलेज शिक्षा निदेशालय की योजना जल्द शुरू हुई तो ई-क्लास के जरिए सभी जिलों में लेक्चरर की कमी का काफी हद तक समाधान होगा। जिले के एक नोडल कॉलेज में एक ई-क्लास शुरू होनी है। इस क्लास के सीधे प्रसारण को अन्य कॉलेजों में देखा जा सकेगा। ई-क्लास का एक फायदा यह भी होगा कि छात्र इन लेक्चर्स को यू ट्यूब जैसे वीडियो पोर्टल पर भी देख सकेंगे।

कॉलेज शिक्षा निदेशालय ने जिले के एक कॉलेज को नोडल मानकर वहां ई-क्लास का सेटअप जमा रहा है। इसके लिए बाकायदा वहां की चयनित फेकल्टी को प्रशिक्षित किया जा चुका है। भीलवाड़ा में एमएलवी कॉलेज को नोडल कॉलेज बनाया गया है। यहां के लेक्चरर डॉ.एसके सिन्हा,डॉ मनीष रंजन जयपुर जाकर प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके है। एमएलवी में कमरा नंबर 124 को क्लास में तब्दील करने के लिए काम भी शुरू हो चुका है। इसके तहत बाकी तैयारियां हो चुकी है बस इलेक्ट्रॉनिक सेटअप लगाने के लिए जयपुर से इंजीनियर आने है।

15 लाख में बनेगी प्रत्येक ई-क्लास:डॉमनीष रंजन के अनुसार प्रदेश में सभी जिलों में ऐसे 36 कॉलेजों में एक ई-क्लास बनेगी। जिसका कुल बजट करीब 5 करोड़ तय किया गया है। प्रत्येक नोडल कॉलेज की ई-क्लास 15 लाख रुपए की लागत से बनेगी। प्रत्येक ई-क्लास में एक एलसीडी,एक कंप्यूटर,एक प्रोजेक्टर,एक कंप्यूटराइज्ड पोडियम,एक वेबकैम,एक स्मार्ट बोर्ड अन्य सामान होंगे।

ई-क्लासमें इस तरीके से पढ़ेंगे छात्र

एमएलवी कॉलेज में कमरा नंबर 124 को क्लास के तौर पर सेटअप किया जा रहा है। शुरुआती तौर पर इस क्लास रूम में लेक्चर रिकॉर्ड किए जाएंगे। फिर इन रिकॉर्डेड लेक्चरर को कॉलेज शिक्षा निदेशालय भेजा जाएगा। वहां से वीडियो पोर्टल जैसे यू ट्यूब आदि पर अपलोड किए जाएंगे। वीडियो पोर्टल पर जाकर विषय विशेष पर छात्र लेक्चरर देख सकेंगे। दूसरा तरीका यह रहेगा कि ऑफ लाइन रिकॉर्डेड कंटेंट को महाविद्यालयों को सीडी डीवीडी के रूप में भेजा जाएगा। ऐसे में जिन कॉलेजों में संकाय विशेष के लेक्चरर नहीं है तो पोर्टल सीडी डीवीडी के जरिए लेक्चरर के शिक्षण अनुभव का फायदा उठाया सकेंगे बाद में जब अन्य कॉलेज में सुविधाएं विकसित होने पर एमएलवी कॉलेज में चलने वाली क्लासों का लाइव टेलीकास्ट किया जाएगा।

इन विषयों से संबंधित होंगी ई-क्लास

ज्यादातर कॉलेजों में वाणिज्य विज्ञान संकाय के लेक्चरर की कमी खासतौर पर रहती है। जिले के बड़े कॉलेज होने के बावजूद सेमुमा गर्ल्स एमएलवी कॉलेज में वाणिज्य संकाय में लेक्चरर की भारी कमी है। ऐसे में इन पर खासतौर पर ध्यान केंद्रित किया गया है। इनके अलावा कला संकाय में भूगोल,राजनीति विज्ञान,इतिहास,समाजशास्त्र,अर्थशास्त्र,हिंदी,अंग्रेजी,संस्कृत होंगे। साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए सामान्य ज्ञान-विज्ञान शामिल होंगे। इससे जिन कॉलेज में फेकल्टी नहीं है वहां के छात्र भी फायदा उठा सकेंगे।

क्लास में भी नवाचार करेगा एमएलवी कॉलेज

डॉ.एसके सिन्हा ने बताया कि क्लास अपने आप में इनोवेटिव आइडिया है लेकिन इसमें भी एमएलवी कॉलेज अपने स्तर पर इनोवेशन करने जा रहा है। दरअसल एमएलवी कॉलेज अपने स्तर पर शिक्षा के अलावा अन्य कौशल विकास से जुड़ी है कक्षाओं के लेक्चर भी प्रदान करेगा यानि शिक्षा के साथ कौशल से जुड़े लेक्चर देखकर छात्र उद्योग इंडस्ट्री के हिसाब से अपने आप को ढाल पाएंगे अन्य चीजों के लिए अपडेट हो सकेंगे।

SHARE