दौसा : सेवानिवृत्त 9 शिक्षकों को संविदा पर लगाया, विद्यार्थी मित्रों की अनदेखी

SHIVIRA Shiksha Vibhag Rajasthan
SHIVIRA Shiksha Vibhag Rajasthan

दौसा : सेवानिवृत्त 9 शिक्षकों को संविदा पर लगाया,
विद्यार्थी मित्रों की अनदेखी

दौसा – सेवानिवृत्तशिक्षकों को पेंशन के तौर पर मोटी राशि मिलने के बावजूद संविदा पर लगाया जा रहा है,जबकि बेरोजगार विद्यार्थी मित्रों की अनदेखी की जा रही है। डीईओ मा.के स्तर पर अब तक सेवानिवृत्त 9 शिक्षकों को संविदा पर लगाया जा चुका है,जबकि आवेदन करने वाले लगातार डीईओ मा.कार्यालय पहुंच रहे हैं।

काउंसलिंग के बाद भी शिक्षकों में शिक्षकों के रिक्त पद रहे गए। इससे देखते हुए माध्यमिक शिक्षा निदेशालय स्तर पर सेवानिवृत्त शिक्षकों को संविदा पर लगाने के सिलसिले में आवेदन आमंत्रित करने के आदेश दिए। निदेशालय के आदेशों की पालना में डीईओ मा.डॉ.प्रेमवती शर्मा के स्तर पर सेवानिवृत्त शिक्षकों से आवेदन मांगे गए। संविदा पर लगने के लिए आवेदन सेकंड थर्ड के शिक्षकों से मांग गए। अब तक प्राप्त 19 आवेदनों में से 9 शिक्षकों को संविदा पर लगा दिा है,जबकि अन्य के दस्तावेजों की जांच की जा रही है। उन्हें भी जल्द ही स्कूलों में लगाया जाएगा। दूसरी ओर आवेदन 26 अगस्त तक ही जमा कराने थे,लेकिन आवेदन अब भी जमा किए जा रहे हैं।

विद्यार्थीमित्रों की अनदेखी, आक्रोश: विद्यार्थीमित्र के तौर पर बच्चों को पढ़ाने में सैकड़ों युवाओं ने अपना गोल्डन पीरियड स्कूलों में खपा दिया। फिर उन्हें हटा दिया गया। इसके विरोध में विद्यार्थी मित्रों ने जिले-जिले में प्रदर्शन के साथ-साथ राज्य स्तर पर जयपुर में भी धरना प्रदर्शन,भूख हड़ताल की। करीब महीनेभर चली भूख हड़ताल से घबराकर सरकार ने विद्यार्थी मित्रों से बातचीत की। नौकरी पर रखने का आश्वासन भी दिया। तब सरकार की सिर्फ एक ही मंशा थी कि भूख हड़ताल समाप्त कराई जाए। विद्यार्थी मित्रों का कहना है कि सरकार अपनी हरकतों से बाज नहीं रही है,जबकि विद्यार्थी मित्रों ने हर बार सरकार की बात मानी है। सरकार अपना वादा निभाए और सेवानिवृत्त शिक्षकों की जगह विद्यार्थी मित्रों को लगाया जाए। सेवानिवृत्त शिक्षकों को तो पेंशन के रूप में पहले ही मोटी राशि मिल रही है। सेवानिवृत्त शिक्षकों को संविदा पर मानदेय पर रखा जा रहा है। संविदा पर लगने वाले शिक्षकों को सेवानिवृत्त के समय वेतन में से पेंशन राशि को घटाकर जो राशि बनती है वह मानदेय के तौर पर दी जाएगी।


कर्मचारियों ने बांटे पीले चावल

राजस्थानराज्य मंत्रालयिक कर्मचारी महासंघ की ओर से 2 सितंबर को जयपुर में होने वाली रैली को लेकर पदाधिकारियों ने बुधवार को कार्यालयों में कर्मचारियों को पीले चावल बांटे। कलेक्ट्रेट सहित सभी विभागों के कार्यालयों में कर्मचारियों को रैली में भाग लेने का न्योता दिया। कर्मचारियों से सामूहिक अवकाश के लिए आवेदन पत्र भराए गए।


बालकों ने किया कलाओं का प्रदर्शन

संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार व विद्या भारती के तत्वावधान में भारतीय संस्कृति के संरक्षण, संवर्धन व उत्थान के लिए दो दिवसीय कार्यशाला का समापन बुधवार को हुआ।

बालिका आदर्श विद्या मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में बाल कलाकारों ने सीखी कलाओं का प्रदर्शन किया। मुख्य अतिथि राजकीय कन्या कॉलेज के प्राचार्य डॉ. शंकरलाल शर्मा ने कहा कि व्यक्ति के सीखने की उम्र नहीं होती है। बचपन से वृद्धावस्था तक सीखा जाता है। आज के विज्ञान को प्राचीन ग्रंथों ने हजारों वर्ष पूर्व ही प्रदर्शित कर दिया था।

कार्यशालाओं से बाल प्रतिभाओं का विकास होता है। विद्या भारती जयपुर प्रांत के निरीक्षक सुरेश बोहरा ने कहा कि संस्था की स्कूलों में शिक्षा के साथ संस्कार नैतिक शिक्षा सहित कई गुणों का समावेश होता है। कार्यक्रम अध्यक्ष समाजसेवी प्रभुनारायण गुर्जर ने कहा कि भारत की सांस्कृतिक धरोहर के कारण ही हम विश्व में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं।

प्रचार प्रमुख परमानंद शर्मा ने बताया कि कार्यक्रम में निखिल पारीक ने राग प्रस्तुत कर सबका मन मोह लिया। जिला संयोजक गिरिराजप्रसाद गुर्जर ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम संयोजक श्यामबिहारी शर्माने प्रतिवेदन पढ़ा। इस दौरान गरिमा तिवाड़ी, लल्लूप्रसाद सैनी, रामकरण शर्मा, शिवचरण शर्मा, कैलाशचंद्र शर्मा, मीना गुप्ता, कलावती गुप्ता, कविता साहनी आदि मौजूद थे। संचालन गायत्री गुप्ता ने किया।

SHARE