डूंगरपुर : साबला में छात्र और छात्राओं के दो हॉस्टल संभाल रहा वार्डन सस्पैंड

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, Shivira Panchang February 2017, अजमेर, अभिनव शिक्षा, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

डूंगरपुर :  साबला में छात्र और छात्राओं के दो हॉस्टल संभाल रहा वार्डन सस्पैंड

डूंगरपुर : आदिवासीबहुल जिले में जनजाति वर्ग को मिल रही सरकारी योजनाओं की सच्चाई देखने के लिए राज्य विधानसभा की जनजाति कल्याण पहुंची। समिति के सामने सरकारी योजनाओं की कलई खुल गई। साबला गर्ल्स हॉस्टल में अतिरिक्त चार्ज वाले वार्डन के नदारद मिलने पर निलंबित कर विभागीय जांच शुरू कर दी गई है।

समिति अध्यक्ष विधायक नवनीतलाल निनामा के नेतृत्व में टीम सुबह 10.15 बजे बेणेश्वर पहुंची। दोपहर 2 बजे तक धरियावद विधायक गौतमलाल,सलुंबर के अमृतलाल आसपुर के गोपीचंद मीणा ने भागवत कथा में सुनी। इसके बाद टीम साबला में सामाजिक न्याय विभाग के भीमराव अंबेडकर हॉस्टल पहुंची तो वार्डन वीरेश कुमार गोयल के 15 तारीख से नहीं आने की शिकायत मिली। छात्रों की उपस्थिति अग्रिम भरी हुई थी। हॉस्टल में अव्यवस्थाएं देख टीम सामने ही इसी विभाग से संचालित सावित्रीबा फुले गर्ल्स हॉस्टल पहुंची। बाथरूम की हालत खस्ता थी। छात्राओं के लिए बाथरूम ठीक नहीं होने पानी के लिए एकमात्र हैंडपंप ही जुगाड़ था। इस हॉस्टल का चार्ज भी वीरेश कुमार गोयल के पास ही था। टीम ने मौके से ही सस्पैंड करने के आदेश दिए।

वोट तो हाथ पर दिया, जवाब मिला-हां

गर्ल्स हॉस्टल का कर्मचारी अचानक पहुंची टीम को देखकर घबरा गया। उससे एक विधायक ने पूछ लिया कि वोट तो हाथ पर दिया था,तो वह बोल गया हां। जब वेस्कूल की ओर चले गए तो उसे बताया गया कि ये तो फूल वाले विधायक हैं। पीछे भागा और हाथ जोड़कर माफी मांगने लगा।

वसूली की बात पर भड़की टीम

रंगेली गांव में भाड़गा एनीकट को क्षेत्रीय विधायक गोपीचंद मीणा ने सीपेज बताते हुए ठीक कराने की मांग रखी। रींछा हॉस्टल में चर्चाएं सामने आई कि जिले के तमाम वॉर्डन से वसूली का काम यहीं से होता है। धरियावद विधायक ने इस मुद्दे को बुधवार की जिलास्तरीय बैठक में रखने का आदेश दिया। रींछा गांव से गुजर रही नहर में जमा सील्ट और उसके सीपेज पर अध्यक्ष निनामा ने आपत्ति की। उन्होंने कहा कि कुछ ही दिनों में सिंचाई के लिए पानी छोड़ना है,वो अब कैसे होगा। जलसंसाधन विभाग के एईएन महेश चौबीसा ने वित्तीय स्वीकृति की परेशानी बताई। निनामा ने माना कि भीखाभाई माही नहर में इंजीनियर की कमी पिछले शासन से है। इसे मुख्यमंत्री को भी बताया जाएगा।

शर्मनाक हालात देखे खेड़ा आसपुर में

देर शाम टीम खेड़ा आसपुर के सामाजिक न्याय विभाग से संचालित डॉ.भीमराव अंबेडकर आवासीय हॉस्टल में पहुंची। यहां वार्डन की गैरमौजूदगी से लगाकर पूरे भवन की दुर्दशा पर टीम स्तब्ध थी। अधिकारी एक घंटे तक फोन करते रहे। कोई कह रहा था काम से उदयपुर गए है तो कोई बता रहा था कि डूंगरपुर सरकारी काम से निकले हैं। बच्चों ने घटिया भोजन, साबुन और बाल कटवाने की असुविधा, शौचालयों में बदहाली, पानी-बिजली की शिकायत की। दल तो वार्डन को सस्पैंड करने पर अड़ गया। अध्यक्ष ने जांच के बाद ही बुधवार को निर्णय लेने की बात कही। यहां रात को लाइट नहीं रहती। समिति ने एसडीएम को व्यवस्थाएं सुधरवाने के निर्देश दिए।

SHARE