चूरू : शिक्षकों के 2330 पद रिक्‍त

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, Shivira Panchang February 2017, अजमेर, अभिनव शिक्षा, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

चूरू : शिक्षकों के 2330 पद रिक्‍त

चूरू के बहुत से सरकारी विद्यालयों में व्याख्याता और वरिष्ठ अध्यापकों के पद रिक्त चल रहे हैं। ऐसे में विद्यार्थियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि सरकार ने शिक्षकों के पद भरने के प्रयास किए लेकिन स्थिति शिक्षा विभाग के अनुकूल नजर नहीं आ रही है। अकेले चूरू जिले की बात करें तो व्याख्याता और वरिष्ठ अध्यापक और अध्यापकों के कुल 1377 पद जिले में रिक्त चल रहे हैं।

सरकार ने काउंसलिंग और डीपीसी से स्कूलों में पद तो भरे लेकिन इसके कारण पीछे से स्कूलें खाली होती चली गई। जिले में 236 सैकण्डरी और 236 सीनियर सैकण्डरी सहित कुल 472 स्कूल हैं। जिले की स्कूलों में सभी श्रेणियों के रिक्त पदों की बात करें तो स्वीकृत कुल 8 हजार 886 पदों में से 2 हजार 330 पद रिक्त चल रहे हैं। ऐसे में स्कूलों की शिक्षण व्यवस्था गड़बड़ाई हुई है। जिले की स्कूलों में सहायक कर्मचारियों का भी टोटा है। स्वीकृत 828 पदों में से 524 पद रिक्त काफी समय से चल रहे हैं। ऐसे में स्कूलों की व्यवस्थाएं गड़बड़ाई हुई है।

जिले में रिक्त पदों की स्थिति

पद                   स्वीकृत     रिक्त
प्रधानाचार्य           236       10
प्रधानाध्यापक        236       61
व्याख्याता            1310     386
वरिष्ठ अध्यापक      2478     669
अध्यापक             2561     322
शाशि द्वि. श्रेणी      110       12
शाशि तृ. श्रेणी       351       23
पुअ. द्वि. श्रेणी       41         22
पुअ. तृ. श्रेणी        79         29
लिपिक ग्रेड ।        177       54
लिपिक ग्रेड ।।       479       218
सहा.कर्मचारी       828       524

करीब 1500 तृतीय श्रेणी शिक्षकों के पद हो जाएंगे खाली

सरकार ने तृतीय से द्वितीय श्रेणी की डीपीसी की तैयारी कर ली है। ऐसे में जिले में करीब 1500 तृतीय श्रेणी के अध्यापकों की कमी स्कूलों को खल सकती है। यह कमी नई भर्ती के बाद ही पूरी हो पाएगी। इसके लिए सरकार विचार कर रही है। इतने पद खाली होने से एक बार फिर विद्यालयों में शिक्षकों की कमी नजर आएगी। जिले में व्याख्याता के 386 और वरिष्ठ अध्यापक के 669 पद रिक्त चल रहे हैं। इसके अलावा अध्यापक के  कुल 322 पद रिक्त हैं। स्कूलों में फिलहाल 924 व्याख्याता,  1809 वरिष्ठ अध्यापक और 2239 अध्यापक कार्यरत है।


तैयारी…

दीपावली तक अधिकतर स्कूलों में शिक्षकों को लगाने की योजना है। व्याख्याता और वरिष्ठ अध्यापकों को स्कूलों में लगा दिया जाएगा। इसके लिए सरकार ने भी पूरी तैयारी कर ली है।

महावीर सिंह पूनिया, जिला शिक्षा अधिकारी, माध्यमिक


SHARE