ग्रामसेवक भर्ती में कंप्यूटर कोर्स अनिवार्य करने से आवेदन से वंचित रह जाएंगे हजारों अभ्यर्थी

ग्रामसेवक भर्ती में कंप्यूटर कोर्स अनिवार्य करने से आवेदन से वंचित रह जाएंगे हजारों अभ्यर्थी

राजस्थान अधीनस्थ मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड की ओर से प्रदेश में ग्रामसेवक भर्ती परीक्षा में कंप्यूटर कोर्स अनिवार्य करने से हजारों अभ्यर्थी आवेदन से वंचित रह जाएंगे। इनके अलावा स्नातक में अध्ययनरत छात्र-छात्रा भी इस भर्ती प्रक्रिया में शामिल नहीं हो पाएंगे। मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड ने कंप्यूटर कोर्स कर रहे छात्रों को भर्ती प्रक्रिया में शामिल नहीं किया है। भर्ती प्रक्रिया शुरू होने से पहले ही हजारों अभ्यार्थियों ने कंप्यूटर कोर्स करना शुरू कर दिया था,लेकिन हाल ही आवेदन प्रक्रिया शुरू हुई तो आवेदन में कंप्यूटर कोर्स में अध्ययनरत अभ्यर्थियों को इस भर्ती प्रक्रिया में शामिल होने का कोई ऑप्शन नहीं है।

इसमें वह छात्र-छात्राएं भी शामिल है। जिन्होंने कोर्स तो कर लिया,लेकिन परिणाम के इंतजार में है। इसके बाद भी उनको आवेदन के दौरान अध्ययनरत का ऑप्शन नहीं मिल रहा है। प्रदेश के हजारों अभ्यर्थियों को इस प्रतियोगी परीक्षा से वंचित रहना पड़ सकता है।

पहली बार अनिवार्य किया कंप्यूटर कोर्स

ग्रामसेवकभर्ती परीक्षा में पहली बार कंप्यूटर कोर्स अनिवार्य किया है। साथ ही परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों में कंप्यूटर से संबंधित प्रश्न भी शामिल किए गए है। किसी भी भर्ती परीक्षा की प्रक्रिया पूरी होने में 6 से 12 माह तक का समय लग जाता है। इसके बाद भी सरकार की ओर से कंप्यूटर कोर्स करने वाले अभ्यर्थियों को आवेदन प्रक्रिया में रियायत नहीं दी जा रही है,जबकि कंप्यूटर कोर्स तीन माह का ही होता है। इधर,राजस्थान लोक सेवा आयोग सहित कई विभागों की भर्ती परीक्षाओं में किसी भी कोर्स में अध्ययनरत अभ्यर्थियों को भर्ती परीक्षा में शामिल किया जाता है। जबकि रिजल्ट आने के बाद चयन होने पर ही अभ्यर्थियों को सभी शैक्षणिक सहशैक्षणिक कोर्स के प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करने होते है। जिससे काफी राहत मिली है।

SHARE