गुरुजी को तबादले की सौगात 20 अक्‍टूबर तक

teacher transfer
transfer

गुरुजी को तबादले की सौगात 20 अक्‍टूबर तक

सरकार ने शिक्षा विभाग में तबादलों से प्रतिबंध हटा दिया है। एेसे में घर से दूर और अलग-अलग काम कर रहे परिजनों को तबादले के बाद एक साथ रहने-काम करने का मौका मिल सकेगा। राज्‍य सरकार ने शिक्षा विभाग में तबादलों पर प्रतिबंध 20 अक्‍टूबर तक हटा लिया है। अब गुरुजी को तबादले की सौगात मिल गई है।

तबादलों से रोक हटाने के बाद शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि जिला शिक्षा अधिकारी से लेकर माध्यमिक शिक्षा में काम करने वाले प्राचार्य, प्रधानाध्यापक, व्याख्याता, द्वितीय श्रेणी के शिक्षक और इनमें काम करने वाले दूसरे अशैक्षणिक कार्मिक इसके अंतर्गत आएंगे।

देवनानी ने कहा की जिन लोगों को परिवार से दूर रहने के चलते परेशानी का सामना करना पड़ रहा है उन्हें राहत दी जाएगी. इसके साथ ही ट्रांफसर के दौरान स्कूलों में पढ़ाई बाधित न हो इसका भी ध्यान रखा जाएगा।

देवनानी ने कहा कि हाल ही काउन्सलिंग के तहत जो शिक्षक अपनी मेरिट के आधार पर मनचाहे स्थान पर लगे हैं, उन्हें उनकी मर्जी के बिना नहीं हटाया जाएगा। वर्ना काउन्सलिंग का कोई मतलब ही नहीं रह जाएगा। यदि काउन्सलिंग के दौरान कोई दो शिक्षक अब इस दौरान म्यूचुअल अण्डरस्टेण्डिंग से विद्यालय बदलना चाहेंगे तो उसमें सरकार को कोई आपत्ति नहीं होगी।

देवनानी ने कहा कि प्राथमिक शिक्षा में पिछले सात साल से ट्रांसफर नहीं हुए हैं, इसलिए सरकार का प्रयास रहेगा कि 20 अक्टूबर के बाद उनके ट्रांसफर भी खोल दिए जाएं, लेकिन इससे पहले माध्यमिक शिक्षा के ट्रांसफर किए जाएंगे।

इससे पूर्व सरकार ने सभी विभागों पर से बैन हटाने के दौरान केवल शिक्षा विभाग को बैन रखा था, अब यह बैन हटा दिया गया है। प्रशासनिक सुधार विभाग के संयुक्त सचिव के हस्ताक्षर से जारी आदेश में कहा गया है कि 04 अक्टूबर से 20 अक्टूबर तक माध्यमिक शिक्षा विभाग में तबादले व प्रतिनियुक्ति हो सकेगी। इस दौरान प्रतिबंध के आदेश शिथिल रहेंगे। सरकार ने पहले 28 सितम्बर के बाद तबादलों पर प्रतिबंध लगा दिया था।

SHARE