आशा सहयोगिनी : 8वीं पास महिला भी बन सकती है

jobs Naukri sarkari naukri govt jobs
jobs Naukri sarkari naukri govt jobs

आशा सहयोगिनी : 8वीं पास महिला भी बन सकती है

महिला साक्षरता में पिछडे़ सात जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों के लिए जारी किए गए हैं आदेश

महिला साक्षरता में पिछडे़ सात जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में अब 8वीं पास महिला भी आशा सहयोगिनी बन सकेंगी। समेकित बाल विकास सेवाएं कार्यक्रम तथा चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने आशा सहयोगिनियों का मानदेय सेवा में चयन के लिए शैक्षणिक योग्यता में शिथिलता देते हुए नए आदेश जारी किए हैं।

समेकित बाल विकास सेवाएं निदेशक डॉ. समित शर्मा ने बताया कि समेकित बाल विकास सेवाएं कार्यक्रम तथा चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से आशा सहयोगिनी का मानदेय सेवा में चयन किया जाता है। इसके लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 10वीं पास है किन्तु बाड़मेर, जैसलमेर, जालोर, सिरोही, टोंक, प्रतापगढ़ एवं उदयपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में 10वीं उत्तीर्ण महिला नहीं मिलने पर शैक्षणिक योग्यता में शिथिलता प्रदान कर अब इन जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में आशा सहयोगिनी के चयन की योग्यता 8वीं पास रखी गई है।

डॉ. शर्मा ने बताया कि आशा सहयोगिनियों के रिक्त पद होने से विभाग द्वारा समुदाय को दी जाने वाले पोषण, स्वास्थ्य एवं टीकाकरण सेवाओं को उपलब्ध करवाने में काफी कठिनाई हो रही थी।

उन्होेंने बताया कि शैक्षणिक योग्यता में शिथिलता देने से बाड़मेर, जैसलमेर, जालोर, सिरोही, टोंक, प्रतापगढ़ एवं उदयपुर जिलों में आशा सहयोगिनियों के चयन में मदद मिलेगी, वहीं काफी समय से चयन नहीं होने के कारण रिक्त पदों पर मानदेय कार्मियों के चयन की प्रक्रिया पूर्ण हो सकेगी।

उन्होंने बताया कि आशा सहयोगिनियों के चयन होने से ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा समेकित बाल विकास सेवाएं कार्यक्रमों द्वारा समुदाय को बेहतर तरीके से लाभ पहुंचाया जा सकेगा।

SHARE