डूंगरपुर : पोषाहार में गबन के आरोपी ठेकेदार को तीन साल की कैद

court case and Education
court case and Education

डूंगरपुर : पोषाहार में गबन के आरोपी ठेकेदार को तीन साल की कैद

डूंगरपुर : तेरह साल पहले डूंगरपुर ब्लॉक के स्कूलों में पोषाहार परिवहन के ठेकेदार ने सालभर के लिए मिले पोषाहार में से 92.74 क्विंटल पोषाहार का वितरण नहीं कर गबन किया। इस मामले में आरोपी ठेकेदार को कोर्ट ने तीन साल कैद की सजा सुनाई है।

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट डूंगरपुर चंद्रप्रकाशसिंह ने मामले में फैसला सुनाया है। पोषाहार परिवहन में गबन के आरोपी कोतवाली थाना क्षेत्र के थाणा निवासी हेमचंद पटेल पुत्र भागचंद पटेल को विभिन्न धाराओं के तहत दोषी मानते हुए तीन साल के साधारण कारावास और 100 रुपए जुर्माना की सजा सुनाई है।

गौरतलब है कि 1 जुलाई,06 को ललित कुमार ने कोतवाली थाने में रिपोर्ट दी। इसमें बताया कि हेमचंद पटेल मैसर्स हरि शिव शक्ति ट्रांसपोर्ट रतनपुर रोड डूंगरपुर को राष्ट्रीय पोषाहार कार्यक्रम के तहत वर्ष 2003-04 के लिए पोषाहार परिवहन हेतू पंचायत समिति डूंगरपुर से टेंडर मिला था। हेमचंद पटेल को भारतीय खाद्य निगम के गोदाम से 5430.55 क्विंटल गेहूं माह अगस्त 2003 से जुलाई 2004 तक पोषाहार गेहूं का वितरण के लिए आवंटित किया गया था।

हेमचंद पटेल ने आवंटित गेहूं में से 5337.81 क्विंटल गेहूं ही डूंगरपुर ब्लॉक के सरकारी स्कूलों में वितरण किया। शेष गेहूं 92.74 क्विंटल पोषाहार गेहूं का आज तक वितरण नहीं किया है। इस संबंध में हेमचंद पटेल को पंचायत समिति डूंगरपुर की ओर से समय-समय पर नोटिस देने के बाद भी स्कूलों में गेहूं का वितरण नहीं कर गबन किया है। पटेल ने 6 से 30 जून,2006 तक गेहूं जमा कराए जाने का लिखित में दिया है। फिर भी अब तक गेहूं जमा नहीं करवाया है।

SHARE