झालावाड़ : माध्यमिक को 800 टीचर दे दिए, अब प्रारंभिक को 1 हजार शिक्षक चाहिए

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

झालावाड़ : माध्यमिक को 800 टीचर दे दिए, अब प्रारंभिक को 1 हजार शिक्षक चाहिए

झालावाड़ : स्टाफिंग पैटर्न में प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने अपने 800 शिक्षकों को तो माध्यमिक शिक्षा में भेज दिया और अब उन्हें करीब 1000 शिक्षकों की कमी पड़ गई। 200 सीटें वो सेवानिवृत्त शिक्षकों से भरना चाहते थे, लेकिन अब तक एक भी सेवानिवृत्त शिक्षक ने आवेदन नहीं किया है।

इसके लिए शिक्षा विभाग ने विज्ञापन भी प्रकाशित करवाए और व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया, इसके बावजूद भी सेवानिवृत्त शिक्षक नहीं पाए। इससे प्रारंभिक शिक्षा विभाग की मुश्किलें बढ़ती हुई दिखाई दे रही हैं। गौरतलब है कि माध्यमिक शिक्षा विभाग में पहले व्याख्याताओं के रिक्त पदों पर सेवानिवृत्त व्याख्याताओं को लगाया जाना था, लेकिन काफी कम संख्या में आवेदन पाए। इसके बाद अब प्रारंभिक शिक्षा विभाग में भी शिक्षकों को कमी को दूर करने के लिए शिक्षा विभाग ने सेवानिवृत्त शिक्षकों को मानदेय पर लगाने की तैयारी शुरू की, लेकिन अभी तक जिले में एक भी आवेदन नहीं आने से इन तैयारियों पर पानी फिरता हुआ दिखाई दे रहा है। जिले से प्रारंभिक शिक्षा से माध्यमिक शिक्षा में 800 से अधिक शिक्षकों को भेजा गया है। इससे हालात यह हा़े गए हैं कि स्कूलों में शिक्षकों की भारी कमी हो गई है। जिले में अकेले द्वितीय श्रेणी शिक्षकों के 400 पद खाली हैं। इधर, डीईओ प्रारंभिक लक्ष्मण मालावत का कहना है कि सेवानिवृत्त शिक्षकों से आवेदन मांगे हैं, लेकिन अभी तक एक भी आवेदन नहीं पाया है।

प्राइवेटमें अच्छा पैसा, यहां नहीं आते रिटायर्ड टीचर

रिटायर्ड शिक्षक फिर से स्कूलों में जाकर पढ़ाने में रूचि नहीं ले पाते हैं। उनको दूर-दराज के गांवों में भेजा जाता है। इससे बसों में आने जाने की परेशानी को देखते हुए रिटायर्ड शिक्षक स्कूलों में फिर से पढ़ाने के लिए तैयार नहीं हो पाते हैं। दूसरी ओर स्थानीय स्तर पर प्राइवेट स्कूलों में ही रिटायर्ड शिक्षकों को अच्छा वेतन मिल जाता है।

इन स्कूलों के लिए लगने होते हैं सेवानिवृत्त शिक्षक

जिलेमें क्रमोन्नत स्कूलों में रिक्त पदों पर छात्र नामांकन संख्या के आधार पर प्रथम प्राथमिकता से प्राध्यापक लगाए जाएंगे। इसके बाद उन स्कूलों को प्राथमिकता दी जाएगी जहां प्राध्यापक के पद शत प्रतिशत रिक्त चल रहे हैं और छात्र नामांकन अधिक हो। बालिका उच्च माध्यमिक स्कूल में प्राथमिकता के आधार पर शिक्षक लगाए जाएंगे।

SHARE