कोटा : IIT की एक चौथाई सीटों पर किसानों के बच्चे

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

कोटा : IIT की एक चौथाई सीटों पर किसानों के बच्चे

कोटा : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) में इस साल किसानों के बच्चों की मौजूदगी ज्यादा है। दाखिले की दौड़ में शिक्षक और पब्लिक सेक्टर में काम करने वाले अभिभावकों के बच्चों को पछाड़ कर खेती करने वालों के बच्चे चौथे पायदान तक जा पहुंचे हैं। इतना ही नहीं ग्रामीण छात्रों की मौजूदगी भी इस बार एक चौथाई रहेगी।

आईआईटीज में शहरी छात्रों का दबदबा बना हुआ है। शहरों में रहने वाले 75 फीसदी छात्र आईआईटी में प्रवेश हासिल करने में सफल रहे। इस बार जेईई एडवांस परीक्षा का आयोजन आईआईटी गुवाहटी ने करवाया था।

प्रवेश प्रक्रिया खत्म होने के बाद संस्थान की ओर से जारी आंकड़ों का विश्लेषण करने पर चौंकाने वाली बात यह सामने आई कि सरकारी नौकरी करने वाले माता-पिता के बच्चे आईआईटी, एनआईटी और ट्रिपल आईटी में सबसे ज्यादा सफल रहे हैं।  इन संस्थानों में प्रवेश लेने वाले 36,566 छात्रों में से 10,200 के माता-पिता सरकारी नौकरी करते हैं।

सफलता के पायदान पर दूसरा स्थान व्यवसायी माता-पिता का रहा। इनके 5814 बच्चों को तीनों संस्थानों में प्रवेश मिला है। प्राईवेट सेक्टर में नौकरी करने वाले अभिभावकों के 4,097 बच्चों को एडमिशन मिला। किसानों के बच्चों ने एडमिशन के मामले में प्रोफेशनल्स और पब्लिक सेक्टर में धूम मचाने वाले माता-पिताओं के बच्चों को पीछे छोड़ दिया।

किसानों के 3213 बच्चे आईआईटी, एनआईटी और ट्रिपल आईटी में एडमिशन लेने में सफल रहे। जबकि इन संस्थानों में प्रवेश लेने वाले 2,018 छात्रों के अभिभावक पब्लिक सेक्टर में काम करते हैं और 1,700 के शिक्षक हैं। वहीं लॉ सेक्टर से जुड़े अभिभावकों के 327 बच्चे, फार्मेसी सेक्टर में काम करने वालों के 59 और आर्किटेक्ट अभिभावकों के 21 बच्चे ही दाखिला हासिल कर सके।

सेल्फ स्टडी में दम

आईआईटी गुवाहटी की ओर से जारी विश्लेषण में सेल्फ स्टडी करने वाले छात्रों ने दम दिखाया है। आईआईटी में एडमिशन पाने वाले 10,576 छात्रों में से 5,539 छात्रों (52.4 फीसदी) ने घर पर पढ़ाई कर आईआईटी परीक्षा क्रेक की। जबकि 4711 छात्रों यानि 44.5 फीसदी ने बताया कि उन्होंने कोचिंग संस्थानों की मदद से प्रवेश परीक्षा पास की है। दो फीसदी छात्र ऐसे थे जिन्होंने बताया कि वह कोचिंग तो नहीं गए, लेकिन प्रवेश परीक्षा पास करने के लिए किसी एक विषय का ट्यूशन जरूर लिया था।

SHARE